देवघर: 148 दिन बाद खुला बाबा बैद्यनाथ मंदिर, E-Pass के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू


Deoghar: झारखंड देवघर (Deoghar) से इस वक्त के सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है. दरअसल, 148 दिन बाद बाबा बैद्यनाथ मंदिर (Baba Baidyanath Temple) का पट आम श्रद्धालुओं (Pilgrims) के लिए सुबह 06:00 बजे से 04:00 बजे तक के लिए खोल दिया गया है. 

बाबा मंदिर में प्रवेश के लिए श्रद्धालु http://jharkhanddarshan.nic.in के माध्यम से ऑनलाइन इंट्री पास प्राप्त कर सकते हैं. इस पास को प्राप्त करने के बाद ही श्रद्धालु बाबा मंदिर में प्रवेश कर पूजा-अर्चना कर सकते हैं.   

मंदिर में प्रवेश सुबह 6 से शाम 4 बजे तक
बता दें कि ई-पास प्राप्त करने के बाद कल से बाबा मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं. श्रद्धालुओं के लिए नोटिस जारी करते हुए प्रशासन ने कहा है कि प्रति घंटे 100 श्रद्धालुओं को प्रवेश की अनुमति होगी. बाबा बैद्यनाथ मंदिर में रोजाना सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक आम श्रद्धालुओं को प्रवेश मिलेगा. हर दिन 10 घंटे पट खुला रहेगा, जिसमें प्रति घंटे 100-100 श्रद्धालुओं को जलार्पण और दर्शन की अनुमति होगी. जानकारी के अनुसार, कोविड गाइडलाइन का पूरे तरह ध्यान रखते हुए यह निर्देश जारी किया गया है. साथ ही अभी फिलहाल प्रतिदिन 1000 श्रद्धालु ही बाबा मंदिर में पूजा कर पायेंगे. 

ये भी पढ़ें- बिहारवासियों के लिए खुशखबरी! पहला लिफ्ट वाला ओवरब्रिज बनकर तैयार

मंदिर में प्रवेश के लिए E-Pass जरूरी
बाबा बैद्यनाथ मंदिर में प्रवेश के लिए E-Pass श्रद्धालुओं के पास होना जरूरी है. इसके लिए आधार कार्ड अनिवार्य होगा. वहीं, सरकार द्वारा कोविड संक्रमण की संभावित तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए फिलहाल वर्तमान स्थिति में 18 वर्ष से नीचे के किसी भी भक्त को बाबा मंदिर में प्रवेश करने से मना किया गया है. इसके अलावा, E-Pass सिस्टम में कोविड वैक्सीन का कम से कम एक डोज लिए व्यक्ति को ही पास निर्गत हो. इस व्यवस्था को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है.

सरकार द्वारा सुरक्षा के कड़े इंतजाम 
कोविड को देखते हुए सरकार का सख्ती से अनुपालन करवाने के लिए बाबा मंदिर और आसपास के इलाके में सुरक्षा के कड़े इंतजाम कराया जाएगा. इसके लिए मंदिर और मंदिर के बाहर पालीवाल पुलिस व दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की जा रही है.  

(इनपुट- दीप नारायण)



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *