चतरा में बर्बादी का मंजर! नशे के दलदल में डूबती जा रही युवा पीढ़ी, पुलिस ने की सहयोग की अपील


Chatra: जिस युवा पीढ़ी के बल पर भारत को आर्थिक महाशक्ति मिल सकती है, वह आज नशे के दलदल में डूबती जा रही है. दरअसल, इन दिनों चतरा की युवा पीढ़ी में तेजी से नशे की लत (Drug addiction) फैल रही है, किशोर व युवा वर्ग में नशे की लत बढ़ रही है. यह नशा शराब, गुटखा, खैनी, सिगरेट का नहीं, बल्कि ब्राउन शुगर, गांजा, अफीम व चरस का है. इस तरह नशा करने की वजह से युवाओं की मानसिक स्थिति बिगड़ती जा रही है.

वहीं, इसे लेकर बुद्धिजीवियों ने भी चिंता जाहिर की है. हालांकि, पुलिस भी तस्करों के विरुद्ध लगातार कार्रवाई कर रही है, इसके बावजूद जिले में नशीले पदार्थों की तस्करी व पीने वालों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. ब्राउन शुगर (Brown Sugar) के तस्करों ने चतरा जिले में इस तरह जाल फैला दिया हैं कि युवा तबका पूरी तरह से इसके जद में आ गया है.

इतना ही नहीं बल्कि ब्राउन शुगर के जद में अबतक कई युवकों ने आत्महत्या (Suicide) तक कर ली है. इसका कारण उन्हें ब्राउन शुगर नहीं मिलना था. कई युवकों को नशे की खुराक नहीं मिलने के कारण विक्षिप्तो की तरह हरकत करते देखा गया है. इसके अलावा पीने वाले पैसे के लिए चोरी, डकैती की राह अपना रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- चतरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता, अफीम के साथ 4 तस्कर गिरफ्तार

चतरा की कई जगहों पर ब्राउन शुगर तैयार किया जा रहा है. पैसे के लालच में इस कार्य में कई सफेदपोश शामिल हैं. मालूम हो कि हर साल बड़े पैमाने पर जिले में पोस्ता की खेती की जाती है, पोस्ता से अफीम निकालकर बेचा जाता है. शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं में भी नशे की लत बढ़ रही है. 

जानकारी के अनुसार, ब्राउन शुगर तस्कर आसपास के क्षेत्रों के युवाओं को चिन्हित कर उन्हें अपने साथ घुमाते-फिराते है. इसके बाद ब्राउन शुगर पीने की लत लगाकर उन्हें अपने चंगुल में फंसा लेते हैं. लत लगाने के बाद युवक तस्कर के पीछे-पीछे घुमने लगते है. गरीबी के कारण उसे फ्री में ब्राउन शुगर पीने के लिए दिया जाता है. इसके बदले में तस्कर उससे ब्राउन शुगर की पुड़िया होम डिलेवरी कराते है. 

युवक पुड़िया लेकर इधर से उधर मंडराते रहते हैं. एक बार कोई किशोर व युवा इनके संपर्क में आ गया तो वह अपने दोस्तों का भी संपर्क इन तस्करों से करा देता है. इससे ब्राउन शुगर पीने वालों की चेन बनती जा रही है. चतरा में दो प्रकार की पुड़िया बिक रही हैं. इनमें पहली 300 व दूसरी 500 रूपए की पुड़िया शामिल हैं. 

एक वर्ष में 130 तस्कर हुए गिरफ्तार 
इधर, पुलिस ने भी अफीम तस्करों के विरुद्ध लगातार कार्रवाई कर पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. हाल ही में जितने ब्राउन शुगर, अफीम, गांजा व डोडा के साथ तस्करों की गिरफ्तारी हुई, उतनी इससे पहले कभी नहीं हुई थी. यहां पुलिस ने एक वर्ष में दो किलो 537 ग्राम ब्राउन शुगर,  573 किलो अफीम, 945 किलो गांजा व 11850 किलो डोडा बरामद किया है. साथ ही 130 लोगों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार भी किया गया है. 

गिरफ्तार तस्करों के पास से 22 लाख 43 हजार 330 रूपए नकद बरामद किए गए. इसके अलावा चार पाहिया वाहन, बाईक, मोबाईल समेत अन्य समान भी जब्त किया गया. पुलिस की इस कार्रवाई के बाद भी इसमें कमी नहीं आ रही है. 

पुलिस अधीक्षक ऋषव कुमार झा ने कहा कि ‘ब्राउन शुगर व अन्य नशीले पदार्थों की तस्करी की रोकथाम के लिए टास्क फोर्स का गठन किया गया है. टीम लगातार अभियान चला रही है. इसमें शामिल लोगों को चिन्हित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. तस्करी में शामिल सफेदपोश को भी गिरफ्तार किया जाएगा.’ उन्होंने आम लोगों से सहयोग की अपील करते हुए नशे के समान बेचने वालों की सूचना देने को कहा है. साथ ही कहा है कि सूचना देने वालों की पहचान गुप्त रखी जाएगी. 

(इनपुट- यादवेंद्र सिंह)



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *