Flipkart और Amazon का विरोध करेगा CAIT, 28 मार्च को जलाए जाएंगे पुतले


दिल्ली: विदेशी ई कॉमर्स कंपनी (Foreign e Commerce Company) के लगातार बढ़ते बिजनेस से देशी कंपनियों का हाल बदतर होता जा रहा है. इसके लिए मौजूदा कानून भी काफी हद तक जिम्मेदार हैं जिसके खिलाफ अब CAIT ने प्रदर्शन करने का मन बना लिया है. CAIT के अध्यक्ष बी सी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने जानकारी दी है कि CAIT के बैनर तले 25 मार्च को ई कॉमर्स लोकतंत्र दिवस (e commerce Democracy Day) मनाया जाएगा और 28 मार्च को Flipkart और Amazon के पुतले जलाए जाएंगे.

पीयूष गोयल को ज्ञापन भेजने की तैयारी

CAIT ने बताया है कि देश भर के 600 से ज्यादा जिलों में 25 मार्च को ई कॉमर्स लोकतंत्र दिवस मनाया जाएगा और ई कॉमर्स लोकतंत्र रैली निकाली जाएगी. इसी दिन सभी जिलों में केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के नाम डीएम को ज्ञापन सौंपा जाएगा. ज्ञापन में देश के ई कॉमर्स व्यापार को बचाने के लिए नए नियम और उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए ट्राई (TRAI)और सेबी (SEBI) की तरह एक रेगुलेटरी अथॉरिटी का गठन करने की मांग की जाएगी.

बर्बादी की कगार पर हैं देशी कंपनी

CAIT की मानें तो ई कॉमर्स के बढ़ते बिजनेस से देश का खुदरा और थोक व्यापार बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. किराना, मसाले, FMCG सेक्टर, गिफ्ट गैलरी, रेडीमेड गारमेंट्स, फुटवियर, चश्मे, घड़ियाँ, दवाइयां समेत कई व्यापार तबाह हो गए हैं. CAIT ने ये भी कहा है कि अगर सरकार ने ई कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ नियम सख्त नहीं किए तो विदेशी कंपनी जल्द ही बाकी बचे सभी व्यापारों पर कब्जा जमा लेंगी और इससे देश के व्यापारी पूरी तरह सड़क पर आ जाएंगे.

ये भी पढ़ें:Maruti के बाद अब Nissan ने कारों के दाम बढ़ाए, 1 अप्रैल से चुकानी होगी ज्यादा कीमत

‘कमजोर हैं भारत के कानून’

CAIT का आरोप है कि विदेशी कंपनियों को ऐसा लगता है कि भारत के कानून इतने कमजोर हैं कि जल्दी से ही उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो पाएगी. भारतीय अदालतों में लंबे समय तक केस चलता रहता है इसका फायदा विदेशी कंपनी उठा रही हैं. CAIT का कहना है कि लचर नीति के चलते विदेशी कंपनी लगातार अपना बिजनेस बढ़ा रही हैं और भारतीय कारोबारी लगातार तबाह होते जा रहे हैं.

LIVE TV:



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *