DNA ANALYSIS: ब्रिटिश राजघराने में रंगभेद की कहानी, Meghan और Prince Harry के इन दावों में कितना सच?


नई दिल्‍ली:  भारत को 200 साल गुलाम रखने वाले ब्रिटेन के राजघराने की चर्चा आज पूरी दुनिया में है.  चर्चा की वजह है,  राजघराने को छोड़ चुकी छोटी बहू मेगन मर्केल और प्रिंस हैरी. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर मशहूर टीवी एंकर ओप्रा विन्फ्रे ने मेगन और प्रिंस हैरी के साथ एक इंटरव्‍यू किया. इस इंटरव्‍यू  में मेगन ने राजघराने पर गंभीर आरोप लगाए. इंटरव्‍यू में मेगन ने ब्रिटिश राजघराने पर रेसिज्‍म यानी रंगभेद का आरोप लगाया. प्रिंस हैरी की पत्नी मेगन ने राजपरिवार पर आरोप लगाते हुए कहा कि शाही परिवार उनके बेटे आर्ची को प्रिंस नहीं बनाना चाहता था, क्योंकि उसके जन्म से पहले उन्हें डर था कि कहीं उसका रंग अश्वेत न हो. मेगन मर्केल की मां अश्वेत समुदाय से आती हैं और पिता श्वेत हैं. माना जाता है कि राजघराने में रक्त और नस्ल की शुद्धता को अभी भी महत्व दिया जाता है, जिसकी वजह से मेगन मर्केल को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था.

अखबारों से लेकर सोशल मीडिया तक इंटरव्‍यू की चर्चा 

हमें लगता है कि सास-बहू के झगड़े भारतीय घरों की कहानी है, पर सच्चाई ये है कि दुनिया के सबसे बड़े राजघरानों में से एक ब्रिटिश राजपरिवार में भी वो सबकुछ सुनने को मिल रहा है जो हम और आप भारत के सीरियल्स में देखते हैं और इसे ब्रिटेन का मीडिया मिर्च-मसाला लगा कर परोस रहा है. ब्रिटिश अखबारों, टीवी न्‍यूज़ और सोशल मीडिया में इसी खबर की चर्चा है. 

मेगन मर्केल कही ये बातें 

मेगन मर्केल को इस बात का दुख था कि उनके बेटे को लेकर राजघराने का बर्ताव अलग है. बेटे आर्ची को जन्म के बाद प्रिंस की पदवी नहीं दी गई. किसी राजकुमार को जो सुरक्षा दी जाती है, वैसी सुरक्षा भी मेगन के बेटे आर्ची को नहीं दी गई थी. दरअसल, जिस नियम के तहत राजपरिवार के बेटों को राजकुमार की उपाधि मिलती है, उन्हें तभी बदल दिया गया था जब मेगन गर्भवती थीं.

19 मई 2018 में प्रिंस हैरी की शादी किसी शाही परिवार में न होकर एक आम लड़की मेगन मर्केल से हुई तो लोगों को काफी हैरानी हुई. लेकिन आम लोग इस शादी को लेकर काफी खुश थे क्योंकि, ये परियों की कहानी जैसी थी, जिसमें एक आम लड़की को सच का राजकुमार मिल जाता है. लेकिन अपने इस इंटरव्यू में मेगन ने बताया कि शादी के बाद राजमहल में वो इतनी परेशान थीं कि उनको आत्महत्या कर लेने के ख्याल आते थे. 

प्रिंस हैरी ने भी उठाए राजपरिवार की व्‍यवस्‍था पर सवाल 

ओप्रा विन्‍फ्रे शो दुनिया का बहुत ही मशहूर टॉक शो है. ये पिछले 35 साल से लगातार चल रहा है. दुनिया का हर बड़ा आदमी इस शो में इंटरव्‍यू देना चाहता है. इस खास इंटरव्यू में मेगन के अलावा प्रिंस हैरी ने भी कई बातें कहीं. मेगन पर राजघराने के दबाव को लेकर हैरी ने राजपरिवार की व्यवस्था पर सवाल उठाए. हैरी ने पत्नी के आत्महत्या के ख्यालों पर कहा कि उन्हें डर था कि इतिहास खुद को दोहराने वाला है. दरअसल, उनका इशारा उनकी मां डायना को लेकर था, जो काफी पहले ये बात कह चुकी थीं कि राजघराने के नियम कायदे की वजह से उनका आत्महत्या करने का मन करता है.

2020 में किया था राजघराने से अलग होने का फैसला

6 मई 2019 को मेगन मर्केल ने बेटे आर्ची को जन्म दिया था. यानी जो आरोप मेगन अब लगा रही हैं, वो घटनाएं वर्ष 2018 और 2019 के बीच की हैं. आपको बता दें कि फिलहाल प्रिंस हैरी और मेगन अमेरिका में रहते हैं क्योंकि, जनवरी 2020 में दोनों ने ही राजघराने से अलग होने का फैसला कर लिया था. प्रिंस हैरी ने अपना सीनियर वर्किंग रॉयल्‍स का पद मार्च 2020 में छोड़ दिया था. 

राजघराने की ओर से उस वक्त ये बताया गया था कि हैरी और मेगन अपनी नई दुनिया बसाना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने राजघराने से अलग होने का फैसला किया. लेकिन ओप्रा को दिए गए इस इंटरव्‍यू में राजमहल में उस दौर में होने वाली घटनाओं का सच अब सामने आ रहा है.

ब्रिटिश मीडिया कर रहा प्रिंस हैरी और मेगन को टार्गेट 

इस इंटरव्‍यू के बाद से ब्रिटिश मीडिया लगातार हैरी और मेगन को टार्गेट कर रहा है. एक तरफ वो लोग हैं, जो राजपरिवार और महारानी एलिजाबेथ की छवि को बचाने की कोशिश में है और दूसरी तरफ वो लोग हैं जो राजघराने के अंदर होने वाले रेसिज्‍म और राजशाही की सोच का विरोध कर रहे हैं. इस मामले पर ब्रिटिश मीडिया की टीवी डिबेट में भी काफी हंगामा हो रहा है.

बोरिस जॉनसन ने दी प्रतिक्रिया

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. बोरिस जॉनसन ने कहा कि हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल के बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता, लेकिन महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने देश और राष्ट्रमंडल के लिए जो भूमिका निभाई है, उसकी हमेशा तारीफ की है. हालांकि जब मामला शाही परिवार का होता है, तो एक प्रधानमंत्री के लिए यही उचित होता है कि वह कुछ न बोले.

‘पारिवारिक मुद्दों पर खुलकर बात करने के लिए साहस की जरूरत’

अमेरिका के व्‍हाइट हाउस ने इस विषय पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. व्‍हाइट हाउस के मुताबिक, मानसिक और पारिवारिक मुद्दों पर खुलकर बात करने के लिए साहस की जरूरत होती है. 

हैरी और मेगन के इस इंटरव्यू के बाद ब्रिटेन के लोगों की भी अलग-अलग प्रतिक्रिया रही है. कुछ लोग मेगन के साथ नजर आ रहे हैं, तो कुछ राजघराने के साथ खड़े हैं. लेकिन रंगभेद के मामले में ज्यादातर लोगों की राय राजघराने के खिलाफ ही नजर आई है.  दुनिया के मशहूर सेलिब्रिटीज भी सोशल मीडिया पर इस मुद्दे पर लिख रहे हैं. जानी-मानी टेनिस खिलाड़ी सेरेना विलियम्‍स ने भी ट्वीट करके हैरी और मेगन का समर्थन किया है. इस मामले में अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की भतीजी मीना हैरिस ने इंटरव्‍यू लेने वाली ओप्रा विन्‍फ्रे की तारीफ की है.



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *