मुश्किल वक्त में India बना Pakistan का सहारा, Corona से जंग के लिए उपलब्ध कराएगा Corona Vaccine


इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) भले ही भारत (India) के खिलाफ साजिश रचने का कोई मौका नहीं छोड़ता, लेकिन भारत इसके बावजूद कोरोना (Coronavirus) से निपटने में उसकी मदद करने को तैयार है. पाकिस्तान भारतीय वैक्सीन के सहारे कोरोना से जंग लड़ेगा. उसे यह वैक्सीन इंटरनेशनल अलायंस GAVI के जरिए उपलब्ध कराई जाएगी. बदहाल आर्थिक स्थिति का सामना कर रहे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) नहीं खरीदने का फैसला लिया है, ऐसे में मेड इन इंडिया वैक्सीन के 4.5 करोड़ डोज उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है.  

जल्द मिलेगी Dose

पाकिस्तान (Pakistan) के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा के सचिव आमिर अशरफ ख्वाजा (Aamir Ashraf Khawaja) ने बताया कि पाकिस्तान को भारत में बनी हुई कोरोना वैक्सीन की खुराक इस महीने से मिलने मिलेगी. ख्वाजा ने कहा कि अभी पाकिस्तान में फ्रंट लाइन वर्कर और वरिष्ठ नागरिकों को वैक्सीन दी जा रही है. गौरतलब है कि पाकिस्तान फिलहाल चीन (China) से मिली वैक्सीन का इस्तेमाल कर रहा है, लेकिन अकेले चीन के बूते वह कोरोना से जंग नहीं लड़ सकता.  

ये भी पढ़ें -China की कम्युनिस्ट सरकार को अब हुई English से चिढ़, स्कूली पाठ्यक्रम से हटाने के प्रस्ताव पर मचा बवाल

20% Population होगी कवर

पाकिस्तान को भारत निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका (Oxford-AstraZeneca) कोरोना वैक्सीन की मुफ्त खुराक मिलेगी, जो देश की 20 प्रतिशत आबादी को कवर करेगी. बता दें कि भारत 65 देशों को COVID-19 वैक्सीन की आपूर्ति कर रहा है. जबकि कई देशों ने अनुदान के आधार पर टीका प्राप्त किया है. हमारी सहयोगी वेबसाइट WION में छपी खबर के अनुसार, अब तक भारत पाकिस्तान को छोड़कर अफगानिस्तान, मालदीव, नेपाल, भूटान और बांग्लादेश जैसे पड़ोसी देशों को भी वैक्सीन उपलब्ध करा चुका है और वहां भारतीय वैक्सीन की बदौलत टीकाकरण शुरू हो गया है.

क्या है Gavi?

पाकिस्तान को ग्लोबल अलायंस फॉर वैक्सीन्स एंड इम्यूनाइजेशन (Global Alliance for Vaccines and Immunisation-Gavi) के जरिए भारत निर्मित वैक्सीन मिलेगी. वर्ष 2000 में स्थापित अंतरराष्ट्रीय संस्था गावी का उद्देश्य दुनिया के गरीब देशों को ऐसी बीमारियों का टीका मुहैया कराना है, जिन्हें वैक्सीन के जरिए रोका जा सकता है. कोरोना से जंग में गरीब देशों की मदद के लिए इसी के तहत वैक्सीन पहुंचाई जा रही है. संयुक्त राष्ट्र पहले ही कह चुका है कि सभी देशों को वैक्सीन मुहैया कराई जानी चाहिए, ताकि आर्थिक स्थिति महामारी से बचाव में बाधा न बने. 

China से मिली है वैक्सीन

पाकिस्तान के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा के सचिव ने बताया कि चीन की फार्मास्यूटिकल कंपनी सिनोफार्म (Sinopharm) ने पाकिस्तान को कोरोना टीके की 10 लाख खुराक देने का वादा किया है. इनमें से 5 लाख पाकिस्तान को मिल गई है और बाकी भी जल्द मिल जाएगी. उन्होंने कहा कि अब तक मिली वैक्सीन में से पाकिस्तान ने 2 लाख 75 हजार खुराक स्वास्थ्यकर्मियों को लगाई हैं. पाकिस्तान का लक्ष्य इस साल के अंत तक 7 करोड़ लोगों को वैक्सीन देने का है.

ऐसे करेगा Corona का सामना

कुछ दिन पहले आमिर अशरफ ख्वाजा (Amir Ashraf Khawaja) ने पब्लिक अकाउंट्स कमेटी की ब्रीफिंग के दौरान कहा था कि फिलहाल देश की कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) खरीदने की कोई योजना नहीं है. हम हर्ड इम्यूनिटी (Herd Immunity) और मित्र देशों से बतौर गिफ्ट मिलने वाली वैक्सीन से ही कोरोना का मुकाबला करेंगे. बता दें कि हर्ड इम्यूनिटी तब होती है जब बड़ी संख्या में लोग, संक्रमित बीमारी से प्रभावित होने के बाद उससे इम्यून बन जाते हैं.  

 



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *