सीरम को Corona Vaccine बनाने में आ रहीं दिक्कतें, केंद्र सरकार से मांगी मदद


नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) को रॉ मैटेरियल न मिलने के चलते इन दिनों दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इस परेशानी से बाहर निकलने के लिए कंपनी ने केंद्र सरकार (Central Government) से मदद मांगी है और अमेरिका से जरूरी रॉ मैटेरियल का इम्पोर्ट कराने की अपील की है.

नया अमेरिकी नियम बना वजह

कॉमर्स सेक्रेटरी अनूप वधावन और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला को पुणे स्थित SII में सरकार और रेगुलेटरी अफ्रेयर्स के डायरेक्टर प्रकाश कुमार सिंह ने एक चिट्ठी लिखते हुए कहा, ‘अमेरिकी सरकार ने डिफेंस प्रोडक्शन एक्ट लागू किया है, जिसके कारण कंपनी को वैक्सीन बनाने में जरूरी प्रोडक्ट जैसे रॉ मैटेरियल, सिंगल यूज ट्यूबिंग असेंबली और स्पेशल केमिकल अमेरिका से इम्पोर्ट करने में मुश्किलें हो रही हैं.’

ये भी पढ़ें:- चीन की कमर तोड़ने की तैयारी, टेलीकॉम नियमों में बदलाव करने जा रही केंद्र सरकार

कई प्रोजेक्ट्स पर काम कर रही SII

उन्होंने आगे कहा कि SSI में बनने वाली कोविशील्ड वैक्सीन भारत और दुनिया भर में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जा रहा है और लाखों लोगों को इसका टीका लगाया गया है. सीरम संस्थान विभिन्न इंस्टिट्यूट जैसे नोवावैक्स (अमेरिका), कोडेगेनिक्स (अमेरिका) आदि के साथ तकनीकी सहयोग से कई अन्य कोविड-19 टीके के प्रोजेक्ट पर काम कर रही है, जिसके लिए वह कई जरूरी प्रोडक्ट अमेरिका से इम्पोर्ट पर निर्भर करते हैं.

ये भी पढ़ें:- घर में रखी इस चीज का पुरुषों को गर्मियों में जरूर करना चाहिए सेवन, मिलेंगे जबरदस्त फायदे

एक्ट के तहत हुए ये बदलाव

अपनी चिट्ठी में सिंह ने आगे कहा, ‘डिफेंस प्रोडक्शन एक्ट के तहत अमेरिकी सरकार ने दो प्रायोरिटी सिस्टम, डिफेंस प्रायोरिटी और आवंटन सिस्टम प्रोग्राम और हेल्थ रिसोर्स प्रायोरिटी की स्थापना की है. HRPAS के दो मेजर कंपोनेंट हैं. प्रायोरिटी कंपोनेंट के तहत टीके के प्रोडक्शन के लिए जरूरी इंडस्ट्रियल इंस्टीट्यूट के प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन के लिए सरकारी और प्राइवेट यूनिट के बीच या प्राइवेट पार्टी के बीच कुछ कॉन्ट्रैक्ट को अन्य कॉन्ट्रैक्ट पर प्रायोरिटी दी जाएगी. इसका मतलब है कि अगर अमेरिकी निर्माताओं के आर्डर को नियमों के तहत प्रायोरिटी दी जाती है, तो उन्हें अन्य देशों के निर्माताओं के आर्डर पर प्रिफरेंस मिलेगी.

ये भी पढ़ें:- JEE Main 2021 का रिजल्ट घोषित, ऐसे करें चेक

देश में हो सकती है वैक्सीन की कमी

सिंह ने आखिर में कहा कि पूरी दुनिया महामारी को खत्म करने के लिए बड़े पैमाने पर कोरोना वायरस वैक्सीन के निर्माण पर निर्भर है. लेकिन अगर हमें अमेरिका से इन जरूरी प्रोडक्टस की समय पर आपूर्ति नहीं मिली तो यह एक गंभीर स्थिति पैदा कर सकता है. इससे कोविड-19 टीकों की तेजी से कमी होगी. क्योंकि इनका निर्माण इन रॉ मैटेरियल और कंपोनेंटआदि की अनइंटरप्टेड आपूर्ति पर निर्भर करता है.

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *