Myanman आर्मी ने प्रदर्शनकारियों को दी कल्तेआम की धमकी, Tiktok वीडियो में कहा-बाहर निकले तो मार देंगे गोली


यांगून: म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बाद सेना विरोधियों को बुरी तरह से कुचल रही है. सैन्य तख्तापलट का विरोध कर रही जनता पर गोलियां चलवा रही है. अबतक ऐसे विरोध प्रदर्शनों में सेना और म्यांमार की पुलिस दर्जनों लोगों की हत्याएं कर चुकी है तो दर्जनों लोग घायल हैं. इस बीच खबरें आ रही हैं कि म्यांमार की सेना और पुलिस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का इस्तेमाल आम लोगों को धमकाने में कर रही है. ऐसा ही एक TikTok वीडियो सामने आया है, जिसमें म्यांमार सेना का एक अधिकारी लोगों को धमका रहा है कि वो रात भर बाहर घूमेगा और जो भी घर से बाहर या सड़कों पर दिखा, वो उसे गोली मार देगा. हालांकि अब टिकटॉक कंपनी ऐसे वीडियोज को अपने प्लेटफॉर्म से हटा रही है.

800 से ज्यादा धमकाने वाले वीडियो

म्यांमार (Myanmar) में डिजिटल राइट्स ग्रुप MIDO ने कहा कि उसे टिकटॉक व अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर 800 से अधिक ऐसे वीडियो मिले हैं, जिसमें म्यांमार की सेना या पुलिस से जुड़े लोग आम लोगों और खास कर सैन्य तख्तापलट का विरोध कर रहे लोगों को धमका रहे हैं. इन वीडियो की वजह से हिंसा में भी तेजी आई है. संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि सिर्फ बुधवार को ही म्यांमार में सेना और पुलिस की गोलीबारी में 38 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इससे पहले शनिवार को भी कम से कम 22 लोगों की मौत हो गई थी. MIDO के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर हताइके हताइए ऑंग ने कहा कि ऐसे सैड़कों वीडियो में पुलिस और आर्मी के जवान अपनी वर्दियों में दिख रहे हैं और साफ कह रहे हैं कि अगर कोई घरों से बाहर निकला और किसी ने प्रदर्शन में हिस्सा लिया, तो वो उसे गोली मार देंगे.

शहीदत देने की इच्छा करूंगा पूरी

हमारी सहयोगी वेबसाइट WION ने कहा है कि इस पूरे मामले में आर्मी के प्रवक्ता और जुंटा से जानकारी लेने की कोशिश की गई, तो भी उस तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया. रायटर्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि फरवरी में ही एक ऐसे वीडियो में म्यांमार आर्मी का एक जवान हथियारों से लैस दिख रहा है, और प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कह रहा है, ‘मैं तुम्हारे चेहरे पर गोली मारूंगा. मैं असली बुलेट्स इस्तेमाल कर रहा हूं. उसने आगे कहा है कि मैं इस शहर में पूरी रात पेट्रोलिंग करूंगा और जो भी दिखेगा, उसे गोली मार दूंगा. अगर तुम्हें शहीद बनने की इच्छा है, तो मैं उसे भी पूरी कर दूंगा.’

ये भी पढ़ें: Army की बर्बर कार्रवाई से नाराज Myanmar के 19 Police Officers पहुंचे India, कुछ वक्त के लिए यहीं रहना चाहते हैं

म्यांमार में गतिरोध बढ़ा

बता दें कि सेना और प्रदर्शन कर रहे लोगों के बीच पहले से जारी गतिरोध के बीच हिंसा से तनाव और बढ़ गया है. प्रदर्शनकारी आंग सान सू ची की निर्वाचित सरकार को फिर से सत्ता में बहाल करने की मांग कर रहे हैं. सेना ने एक फरवरी को तख्तापलट (Coup) कर सू ची और अन्य नेताओं को गिरफ्तार कर लिया था. म्यांमार (Myanmar) के सैन्य नेतृत्व में काम कर रही प्रादेशिक काउंसिल तीन मौलिक कानूनों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर चुकी है. इसमें व्यक्तिगत सुरक्षा और स्वतंत्रता से संबंधित कानून की धारा 5, 7 और 8 भी शामिल है. सेना ने पिछले साल के चुनाव में धांधली का आरोप लगातार चुनी हुई सरकार का तख्तापलट कर दिया है.



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *