बड़ी राहत! अब जन्मजात बीमारियों का भी मिलेगा क्लेम, पॉलिसी देने से मना नहीं कर सकती बीमा कंपनियां


नई दिल्ली: Health Insurance: बीमा कंपनियां आने वाले समय में आपको किसी भी बीमारी का क्लेम देने से मना नहीं कर पाएंगी. इंश्योरेंस रेगुलेटर IRDAI (Insurance Regulatory and Development Authority) ने बीमा कंपनियों से साफ साफ कह दिया है कि बीमा कंपनियां किसी को भी पॉलिसी देने से मना नहीं कर सकती हैं, चाहे वो  बीमारी जन्मजात ही क्यों न हो.  

‘किसी को जन्मजात बीमारी तो भी मिलेगा क्लेम’

IRDAI के चेयरमैन सुभाष चंद्र खुंटिया नेशनल इंश्योरेंस अकादमी के कार्यक्रम में बोल रहे थे. जिसमें उन्होंने कहा कि अगर किसी व्यक्ति को कोई पैदाइशी बीमारी है या ऐसी बीमारी जिसके लिए इंश्योरेंस कंपनी पॉलिसी नहीं दे रही है तो कंपनियों को जो बीमारी व्यक्ति के हाथ में नहीं है उसके लिए इंश्योरेंस कवर से वंचित नहीं करना चाहिए. IRDAI ने कहा कि इस मामले में बीमा कंपनियों को ध्यान देने की जरूरत है. ज्यादा डेटा एनालिसिस कर पॉलिसी होल्डर को इंश्योरेंस से दूर रखना गलत है. 

ये भी पढ़ें- Aadhaar Card: अब पैदा होते ही बन जाएगा बच्चों का आधार कार्ड! UIDAI ने शुरू की नई सुविधा, जानिए क्या करना होगा?

वैल्यू एडेड सेवाएं शुरू करेंगी बीमा कंपनियां

कार्यक्रम में उन्होंने बीमा कंपनियों को अपनी सेवाएं सुधारने के लिए वैल्यू एडेड सर्विसेज (Value Added Services) शुरू करने की भी सलाह दी. पॉलिसी के साथ वैल्यू एडेड सर्विसेज मिलने से ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं मिल सकेंगी. IRDAI ने कहा कि इससे बीमित व्यक्ति या ग्राहक का अनुभव पॉलिसी के साथ बेहतर होगा. 
खुंटिया ने बताया कि जल्द ही इंश्योरेंस कंपनियां इंश्योरेंस प्रोडक्ट के साथ वैल्यू एैडेड सर्विस भी जोड़ेंगी जिससे पॉलिसी होल्डर्स को बेहतर सर्विस दी जा सके. 

ऐसी होंगी वैल्यू एडेड सेवाएं

यानी बीमा कंपनियां अपनी बीमा पॉलिसी में ग्राहकों को वैल्यू एडेड सर्विसेज देंगी जैसे किसी डायबिटीज के मरीज को कौन सा डायट प्लान अपनाना चाहिए, क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए. उन्हें फिटनेस कोच मुहैया कराया जाएगा, हेल्थ चेक अप करवाना और कंसल्टेशन जैसी सुविधाएं एडेड सर्विस में शामिल होंगी. इंश्योरेंस रेगुलेटर IRDAI का कहना है कि अब इंश्योरेंस कंपनियों को मरीज का हॉस्पिटल में इलाज करवाने से ज्यादा इस बात पर फोकस रहना चाहिए कि वो बीमारियों से अपना बचाव कैसे कर सके, फिट कैसे रह सके ताकि कम से कम उसे अस्पताल आना पड़े. बीमा कंपनियों का ध्यान अपनी सर्विसेज सुधारने पर ज्यादा होना चाहिए. 

कोविड के क्लेम 

खुंटिया ने बताया कि कोविड-19 के अबतक 7136.3 करोड़ रुपय के क्लेम दिए जा चुके हैं. जिसमें कोरोना  कवच जैसी स्की का क्लेम 700 करोड़ रुपये है. जबकि महामारी से संबंधित लाइफ इंश्योरेंस क्लेम 1242 करोड़ रुपये है, जिसे चुकाया गया है. 

इंश्योरेंस में बड़े स्तर पर इनोवेशन 

इंश्योरेंस कंपनियों ने कोविड-19 में हजारों करोड़ के क्लेम सेटल किए हैं. बेहतर टेक्नोलॉजी की मदद से रिस्क को भी कम किया जा रहा है. खबर के मुताबिक, सैंडबॉक्स नियमों से इंश्योरेंस में बड़े स्तर पर इनोवेशन हो रहा है. इसका असर है कि कंपनियों की इनोवेटिव प्रोडक्ट्स में दिलचस्पी बढ़ी है.
खासकर हेल्थ और स्टैंडर्ड प्रोडक्ट में अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. खबर के मुताबिक, स्टैंडर्ड प्रोडक्ट में भी इनोवेशन किए जा सकते हैं. डेटा के जरिए रिस्क का पता लगाया जा सकता हैं. साथ ही डेटा सिक्योरिटी और प्राइवेसी पर इंश्योरेंस कंपनियों को ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है. 

ये भी पढ़ें- हवाई यात्रियों के लिए खुशखबरी! फिर खुलेगा मुंबई एयरपोर्ट का टर्मिनल-1, घरेलू फ्लाइट्स 10 मार्च से होंगी शुरू

LIVE TV



BellyDancingCourse Banner

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *